कपास की कीमतों में भारी गिरावट; क्या दरें बढ़ेंगी ?

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group (3.1K+) Join Now
नरमा कपास ग्वार मुंग मोठ के किसान इस ग्रुप से जुड़े Join Now
hui
2/5 - (1 vote)

कपास की कीमतों में भारी गिरावट; क्या दरें बढ़ेंगी ?

26 दिसंबर 22

पुणे : कपास मंडी का आज का दिन किसानों के लिए मायूसी भरा रहा. आज फ्यूचर मार्केट और मार्केट कमेटियों में कॉटन रेट में भारी उतार-चढ़ाव देखा गया। इससे किसानों की चिंता बढ़ गई है। आज कपास की कीमतों में औसतन 500 रुपये प्रति क्विंटल की कमी आई है।

बाजारों में आज कपास की कीमतों में 1,640 रुपये प्रति गांठ की गिरावट आई। वायदा आज 27 हजार 400 रुपये पर था। क्विंटल के लिहाज से यह रेट 16 हजार रुपए प्रति क्विंटल है। मंडी समितियों में कपास के भाव भी शनिवार के मुकाबले आज 400 से 500 रुपये प्रति क्विंटल कम हुए। आज घरेलू बाजार में कपास की औसत कीमत 7,500 रुपये से 8,500 रुपये के बीच है।

अगले हफ्ते क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों के चलते अंतरराष्ट्रीय बाजार बंद हैं। नतीजतन अंतरराष्ट्रीय बाजार में कपास के सौदे नहीं हो रहे हैं। इसका असर देश में कपास की कीमत पर भी पड़ा है। प्रमुख अंतरराष्ट्रीय खरीदार, निर्यातक और दलाल इस अवधि के दौरान छुट्टियां लेते हैं। कपास ही नहीं, बल्कि सभी कृषि जिंस फिलहाल बंद हैं। लेकिन हमने पहले ही सोयाबीन वायदा पर रोक लगा रखी है। इसलिए सोयाबीन के भाव पर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा।

साथ ही देश के फ्यूचर्स में अभी दिसंबर के ट्रांजेक्शन ही चल रहे हैं। सेबी ने अभी जनवरी 2023 के बाद के फ्यूचर्स की अनुमति नहीं दी है। यानी सिर्फ दिसंबर वायदा में कारोबार हो रहा है। इनका समापन भी 30 दिसंबर को होता है। इसका कपास की कीमत पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव भी पड़ा है। क्या सेबी जनवरी और उसके बाद के कपास वायदा पेश करेगा या वायदा पर प्रतिबंध लगाएगा? यह सवाल अभी भी बना हुआ है और इसका असर पिछले कुछ दिनों से बाजार में महसूस किया जा रहा है।

आवक वाला दबाव ?

दिसंबर सबसे व्यस्त महीना है। हम पहले इस पर चर्चा कर चुके हैं। दिसंबर और जनवरी के दूसरे सप्ताह तक कपास की कीमतें सीजन के अपने सबसे निचले स्तर पर होती हैं। इस साल किसानों ने कपास रोक रखी है, जिससे भाव अधिक हैं। लेकिन कपास बाजार के जानकारों ने पहले ही अनुमान लगा लिया था कि कीमत में उतार-चढ़ाव से बाजार कुछ समय के लिए दबाव में रहेगा। ऐसे में बाजार इस समय दबाव में है।

इन्हें भी पढ़े :- आज का नरमा कपास भाव देखें

चीन में कोरोना

चीन में कोरोना के मामले बढ़ने की खबरों का असर बाजार पर भी पड़ रहा है। हालांकि कुछ लोगों का यह भी कहना है कि कोरोना चीन में दिखाई गई तीव्रता का नहीं है। हालांकि, चूंकि चीन कपास का सबसे बड़ा उपभोक्ता है, इसलिए इसकी मांग अंतरराष्ट्रीय बाजार और वैकल्पिक रूप से घरेलू बाजार को भी प्रभावित करती है। कुछ लोगों का कहना है कि इसका भारतीय कपास बाजार पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ रहा है।

तस्वीर कब साफ होगी?

वर्तमान में, हालांकि हमारा बाजार खुला है, अंतरराष्ट्रीय बाजार बंद है। अब आपने कहा, इससे हमें क्या लेना चाहिए? लेकिन कपास का बाजार देश तक ही सीमित नहीं है बल्कि वैश्विक है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में दाम बढ़ने का सीधा असर हमारे बाजार पर पड़ता है। इसलिए उद्योग पिछले कुछ दिनों से घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार दरों की तुलना कर आयात शुल्क हटाने की मांग कर रहा है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में लेन-देन 4 जनवरी से शुरू होगा। जनवरी के मध्य तक चीन में कोरोना की तस्वीर भी साफ हो जाएगी। इससे साफ हो सकता है कि चीनी बाजार से मांग बढ़ेगी या घटेगी। साथ ही देश में उच्च आय का दबाव भी कम होगा। नतीजतन, कपास की कीमत जनवरी के दूसरे या तीसरे सप्ताह से सुधर सकती है, कपास बाजार विश्लेषकों ने भविष्यवाणी की थी।

क्या स्थिति होगी?

अगले दो-तीन सप्ताह तक कपास बाजार दबाव में रहेगा। वर्तमान में देश में कपास की कीमत की तुलना करने के लिए कोई अंतरराष्ट्रीय बाजार नहीं है। इसलिए घबराएं नहीं। पैनिक सेलिंग से बचें। जनवरी में स्थिति में सुधार हो सकता है। इंटरनेशनल मार्केट भी शुरू होगा। इससे और स्पष्टता मिलेगी। इसलिए किसानों ने अपील की है कि वर्तमान स्थिति में आवश्यकता के अनुसार कपास बेचना ही हितकर होगा और यदि संभव हो तो कीमत बढ़ने तक प्रतीक्षा करें।

नोट ध्यान देने वाली बातें :- व्यापार अपने विवेक अनुसार करे लाभ हानि की हरियाणा मंडी भाव वेबसाइट जिम्मेवारी नहीं लेती है

इन्हें भी पढ़े :- आज का नरमा कपास भाव देखें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आगे वाली पोस्ट देखे
आज वार सोमवार दिन और तारीख 27 दिसम्बर 2022 नमस्कार किसान मित्रो आज हम इस आर्टिकल…
error: Content is protected !!